Prayagraj : मौनी अमावस्या पर भीड़ और ट्रैफिक प्रबंधन पर विशेष फोकस

एडीजी और मंडलायुक्त ने की समीक्षा, भीड़ डिस्पर्सन की समुचित व्यवस्था के निर्देश
माघ मेला में पांटून पुल पर न लगने पाए जाम, छोटी-छोटी बातों पर दिखाई जाए गंभीरता
आलोक गुप्ता
प्रयागराज: (Prayagraj)
माघ मेले का तीसरा प्रमुख स्नान पर्व मौनी अमावस्या 21 जनवरी को पड़ रही है। इसके बाद चौथा स्नान पर्व माघी पूर्णिमा पांच फरवरी को और आखिरी स्नान पर्व महाशिवरात्रि का 18 फरवरी को पड़ेगी। माघ माह के प्रमुख स्नान पर्वों में एक मौनी अमावस्या को सकुशल संपन्न कराने केलिए प्रशासन ने पूरी ताकत लगा दी है।
भीड़ को नियंत्रित करने के लिए विशेष दिशा निर्देश दिए गए हैं। माघ मेला क्षेत्र में स्नानार्थियों के प्रवेश से लेकर निकलने तक के रास्तों पर बराबर निगरानी बिठाई गई है। स्नान के बाद घाट और पांटून पुलों पर जाम नहीं लगने देने की विशेष हिदायत दी गई है। एडीजी भानु भाष्कर और मंडलायुक्त विजय विश्वास पंत ने मौनी अमावस्या के स्नान पर्व को सकुशल संपन्न कराने के लिए की गई तैयारियों की समीक्षा की। गुरुवार की बैठक में अधिकारी द्वय ने विभिन्न विभागों की तैयारियों का जायजा लिया। एडीजी ने कहा, छोटी से छोटी बातों का विशेष ध्यान रखा जाए और उसे गंभीरता से लें। संदिग्ध व्यक्तियों एवं संदिग्ध वस्तुओं पर विशेष ध्यान दें। मेला क्षेत्र में पानी का छिड़काव करते रहें। पीपे के पुल पर किसी भी स्थिति में जाम न लगने पाए। इसके साथ ही सभी पुलों की एक बार देखभाल कर ली जाए। उन्होंने कहा कि टीम वर्क की भावना से कार्य करने पर किसी भी कार्य में सफलता अवश्यंभावी है। उन्होंने भीड़ एवं यातायात प्रबंधन की समुचित व्यवस्था बनाए रखने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि स्नान पर्व के दिन स्नान के बाद भीड़ के डिस्पर्सन की समुचित व्यवस्था रहे, जिससे कि किसी भी दशा में शहर में जाम की स्थिति न उत्पन्न होने पाये।

मण्डलायुक्त विजय विश्वास पंत ने बैठक में कहा कि मेला क्षेत्र में मोबाइल नेटवर्क की समुचित व्यवस्था बनाने के लिए संबंधित कंपिनयों से समन्वय बनाएं। स्नान पर्व के दिन दुकानों पर अनावश्यक भीड़ न जुटने पाए। जलनिगम लीकेज की व्यवस्था को तत्काल दुरुस्त करवाए। इसके साथ ही लोनिवि पीपे के पुल और चकर्ड प्लेटों को व्यवस्थित करवाए। कमिश्नर ने कहा, सभी विभागों के अधिकारी और कमर्चारियों की ड्यूटी कंट्रोल रूम में नियमित अंतराल पर लगाई जाए। मेला क्षेत्र में साफ-सफाई, स्टेशनों व अन्य स्थलों पर बनाए गए होल्डिंग एरिया में प्रकाश, शौचालय, पीने के पानी एवं साफ-सफाई की समुचित व्यवस्था बनाया जाए।

कमिश्नर ने सीएमओ और एसआरएन के प्राचार्य को भी सभी व्यवस्थाओं के साथ हर वक्त अलर्ट मोड पर रहने का निर्देश दिया है। घाटों पर निरंतर साफ-सफाई, प्रकाश, चेजिंग रूम सहित अन्य आवश्यक व्यवस्थायें सुनिश्चित रहे साथ ही साथ जल पुलिस एवं गोताखोरों की भी पर्याप्त मात्रा में तैनाती सुनिश्चित किए जाने के लिए कहा है। उन्होंने कहा है कि नाव में ओवरलोडिंग किसी भी दशा में न होने पाये। निर्धारित संख्या के अनुरूप ही लोग नाव में बैठे तथा जितने लोग बैठे उतने लाइफ जैकेट अनिवार्य रूप से रहे। किसी भी दशा में नशे की हालत में कोई भी नाविक नाव न चलाने पाए। इस अवसर पर पुलिस आयुक्त रमित शर्मा, अपर पुलिस आयुक्त आकाश कुलहरि, जिलाधिकारी संजय कुमार खत्री, मेलाधिकारी अरविंद चौहान, एसपी मेला राजीव नारायण मिश्रा, अपर मेलाधिकारी दयानंद प्रसाद एवं विवेक चतुर्वेदी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *