spot_img
HomelatestMumbai : ठाणे जेल को हटाने के विरोध में सदन में एनसीपी...

Mumbai : ठाणे जेल को हटाने के विरोध में सदन में एनसीपी एसपी के आव्हाड ने किया केलकर का समर्थन

मुंबई : करीब 300 साल का इतिहास रखने वाले और भारतीय स्वतंत्रता के गवाह रहे ठाणे किले यानी वर्तमान जेल को स्थानांतरित करने की बिल्डर लॉबी के खतरनाक मंसूबों को ठाणे की जनता कभी भी कामयाब नहीं होने देगी आज सदन के सत्र में विधायक संजय केलकर ने यह वक्तव्य देकर सरकार से यह फैसला तुरंत वापस लेने की मांग की तो राष्ट्रवादी शरद पवार गुट के विधायक जितेंद्र आव्हाड ने सार्वजनिक रूप से उनका समर्थन किया. इसके बाद सदन में सन्नाटा फेल गया ।

ठाणे केंद्रीय कारागृह जो कि पूर्व में ठाणे का किला था अब वर्तमान ठाणे जेल को भिवंडी में स्थानांतरित करने और किले की जगह पर एक भव्य पार्क बनाने के कदम के बाद ठाणे शहर के विधायक संजय केलकर ने इस फैसले का कड़ा विरोध किया है । उन्होंने कहा कि ठाणे जेल भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की गवाह है और यहां अंग्रेजों ने पेशवाओं के पहले प्रबंधक त्रिंबकजी डेंगले को रखा था। बाद में शुरुआती क्रांतिकारी राघोजी भांगरे को यहीं फांसी दी गई थी। बाद में कन्हेरे, कर्वे और देशपांडे को फाँसी दे दी गई। इस जेल में कई स्वतंत्रता सेनानियों ने सजा काटी है। उससे पहले चिमाजी अप्पा ने पुर्तगालियों के अन्यायपूर्ण शासन की अवज्ञा करके ठाणे जेल यानी तत्कालीन ठाणे किले को आज़ाद कराया था।इतनी ऐतिहासिक पृष्ठभूमि वाली, ठाणेकरों की पहचान रही ठाणे जेल के लिए विधायक संजय केलकर ने एक बड़ा आंदोलन खड़ा करने का बीड़ा उठाया है और ठाणेकर इस पर एक पत्थर भी गिरने नहीं देंगे. जेल की जगह पर पार्क बनने के बाद बिल्डर लॉबी के लिए जमीन मुफ्त हो जाएगी और उनके फायदे के लिए ऐतिहासिक धरोहरों को नष्ट नहीं किया जाएगा। ठाणे के बीजेपी विधायक केलकर ने यही मुद्दा चालू मानसून सत्र में भी उठाया था . इस ऐतिहासिक किले में भित्तिचित्रों के रूप में एक स्मारक बनाने की योजना प्रगति पर है और सरकार को इस फैसले को पलट देना चाहिए। उन्होंने कहा कि ठाणेकर जेल स्थानांतरित करने की योजना को सफल नहीं होने देंगे. विधायक केलकर ने विश्वास व्यक्त किया कि चूंकि मुख्यमंत्री ठाणे से हैं, इसलिए वे ठाणेकरों की भावनाओं का भी सम्मान करेंगे।शरद पवार गुट के विधायक जीतेंद्र ने विधायक केलकर की मांग का समर्थन किया. जेल का इतिहास प्रस्तुत कर जेल स्थानांतरित करने के निर्णय का पुरजोर विरोध किया गया। हालाँकि, इस समर्थन से ठाणे किले के संरक्षण को लेकर राजनीतिक विरोध की दीवारें गिर गईं, वहीं दूसरी ओर, सदन कई लोगों की भौंहें भी तन गईं।

spot_imgspot_imgspot_img
इससे जुडी खबरें
spot_imgspot_imgspot_img

सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली खबर