Calgary : उक्रेन में आज रूस के युद्ध का चेहरा एक साल पहले से इतना अलग क्यों है

कैलगरी: (Calgary) व्लादिमीर पुतिन का यूक्रेन में “विशेष सैन्य अभियान” अपनी पहली वर्षगांठ पूरी करने जा रहा है। हालाँकि, आज रूसी सेनाओं द्वारा लड़ा जा रहा युद्ध एक वर्ष पहले के युद्ध से बहुत अलग है जब रूस ने पहली बार यूक्रेन पर आक्रमण किया था।फरवरी 2022 में, कीव पर रूसी हमला – यूक्रेन में शासन परिवर्तन के उद्देश्य से किया गया प्रतीत होता था – जल्द ही लड़खड़ा गया। यह शीघ्र ही स्पष्ट हो गया कि वर्तमान यूक्रेनी शासन का पतन यूं ही नहीं हो जाएगा।ऐसा प्रतीत होता है कि पुतिन ने यूक्रेनी सशस्त्र बलों में सुधार के बारे में ध्यान नहीं दिया या उन्हें नहीं बताया गया कि 2014 के बाद से डोनबास क्षेत्र में अलगाववादी और रूसी सेना लड़ रहे हैं। बहरहाल, युद्ध के पहले हफ्तों के दौरान, रूसी सेना ने पूर्वी यूक्रेन में महत्वपूर्ण क्षेत्र हासिल कर लिया।

हालाँकि, जल्द ही रूस का आगे बढ़ने का सिलसिला रूक गया और युद्ध एक ऐसी लड़ाई में बदल गया, जो आज तक जारी है। यूक्रेनी सेना ने भी 2022 में गंवाए इलाके पर जल्द दोबारा कब्जा कर लिया, लेकिन उनकी पेशकदमी भी फिलहाल के लिए समाप्त हो गयी है।युद्ध के मैदान पर कोई भी पक्ष निर्णायक लाभ हासिल नहीं कर पाया है। कई पश्चिमी पर्यवेक्षकों की भविष्यवाणियों के बावजूद यूक्रेन में रूस की सेना ध्वस्त नहीं हुई है और ऐसा होने के कोई संकेत भी नहीं दिख रहे हैं। यहाँ बताते हैं कि ऐसा क्यों है।

बलों को फिर से तैनात करना

कीव के उत्तर में रूस का हमला निस्संदेह एक पराजय थी और इसे रोक दिया गया था, जिसके परिणामस्वरूप रूसी सेना को पूर्व में फिर से तैनात किया गया। इसने रूसी आपूर्ति लाइनों को बहुत सरल बना दिया और इसके साथ ही पूर्व में सैनिकों की संख्या बढ़ गई। दक्षिणी यूक्रेन में खेरसॉन के पास के क्षेत्र से रूस की वापसी का भी यही प्रभाव था।

रूस ने यूक्रेन पर इतनी छोटी सेना के साथ आक्रमण किया कि वहां एक बड़ा युद्ध छेड़ना संभव नहीं था।हालाँकि पुतिन कई महीनों तक यह स्वीकार नहीं कर पाए कि यूक्रेन में उनका तथाकथित विशेष सैन्य अभियान वास्तव में एक पूर्ण युद्ध था, उन्होंने निश्चित रूप से अब ऐसा किया है – शब्दों और कार्यों दोनों में।उनके व्यवहार में बदलाव के साथ यूक्रेन में रूस की सेना को काफी मजबूती मिली है। आरक्षित सैनिकों को लगाने से रूसी सेना को पहले की तुलना में कहीं अधिक मानव संसाधन मिला है।

रूस के आरक्षित सैनिक यूक्रेन के पूर्व में केंद्रित हैं, और वे अधिकांश अग्रिम पंक्तियों में रक्षात्मक मुद्रा में हैं। इस रक्षात्मक मुद्रा का मतलब है कि लगभग एक साल पहले व्यापक मोर्चे पर आक्रामक अभियानों की तुलना में जीवन और संसाधन का नुकसान कम होगा।रूसी आक्रामक अभियान अब मुख्य रूप से दोनेत्स्क और लुहांस्क के शेष क्षेत्र को सुरक्षित करने की कोशिश पर केंद्रित हैं। उस क्षेत्र को सुरक्षित करना आक्रमण का मुख्य औचित्य था।

प्रगति का बदला तरीका

डोनबास में बखमुत के क्षेत्र में रूस के मौजूदा अभियान तेजी से प्रगति नहीं कर रहे हैं, लेकिन वह सीमित प्रगति कर रहे हैं, जो कई मायनों में रूसी सेना के लिए बेहतर है।

युद्ध की शुरुआत में रूसी सैनिकों के “कमांड और नियंत्रण” के साथ जो समस्याएं थीं, वह सीमित दायरे में सेना के संचालन के साथ कम हो गई हैं। आमतौर पर कम अनुभवी और व्यापक प्रशिक्षण की कमी के कारण, रूस के आरक्षित सैनिक आज के अधिक सीमित और व्यवस्थित कार्यों के लिए ज्यादा अनुकूल हैं।रूसी सेनाओं के पास अब लड़े जा रहे तोपखाना आधारित भारी युद्ध में लड़ने का काफी अनुभव है।जैसे-जैसे युद्ध आगे बढ़ेगा दोनों पक्षों को जनशक्ति और सामग्री की कमी का सामना करना पड़ेगा। रूस के पास बड़े भंडार हैं, साथ ही ईरान और उत्तर कोरिया जैसे मुट्ठी भर सहयोगी हैं – जबकि यूक्रेन की पीठ पर नाटो गठबंधन का हाथ है।

लंबी लड़ाई की संभावना

इसलिए दोनों पक्षों में निकट भविष्य के लिए लड़ते रहने की क्षमता है। कुछ नवीनतम पश्चिमी टैंकों और अन्य बख्तरबंद वाहनों सहित अधिक पश्चिमी उपकरण निस्संदेह अल्पावधि में यूक्रेनी सेना को मजबूत करेंगे। लेकिन अधिक तरह के वाहन इनके प्रशिक्षण, रखरखाव और आपूर्ति के मुद्दों को जटिल बनाते हैं।यदि युद्ध अपने वर्तमान प्रक्षेपवक्र के साथ जारी रहता है, तो किसी भी पक्ष को निर्णायक लाभ प्राप्त होने की संभावना नहीं है। एक पक्ष या दूसरे पक्ष को अस्थायी लाभ मिल सकता है, लेकिन रूस या यूक्रेन के लिए कोई भी लाभ बनाए रखने की संभावना नहीं है।अफसोस की बात है कि किसी भी वार्ता के अभाव में – और निश्चित रूप से सार्थक वार्ता जिसमें दोनों पक्षों को देना और लेना होगा – रक्तपात अभी कुछ समय तक जारी रहने की संभावना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *