Lucknow: उप्र: जेलों में बंद दुर्दांत अपराधियों, माफिया की हर गतिविधियों पर रहेगी कैमरों की नजर

लखनऊ: (Lucknow) उत्तर प्रदेश की जेलों में बंद दुर्दांत अपराधी और माफिया की हर गतिविधियों पर नजर रखने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) के निर्देश पर राज्य की 30 जेलों में सीसीटीवी कैमरों की संख्या बढ़ाने और उनके उन्नयन का काम अंतिम दौर में है। जेल विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी। अधिकारी ने बताया कि इस महत्वाकांक्षी परियोजना को आगामी फरवरी तक पूरा कर लिया जाएगा।

विभाग की ओर से शासन को इस संबंध में पिछले साल एक प्रस्ताव भेजा गया था, जिस पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक उच्च स्तरीय बैठक में गृह विभाग को करीब 976 लाख रुपये का बजट जारी करने का निर्देश दिया था। वहीं, दूसरे चरण में राज्य की 20 अन्य जेलों में सीसीटीवी कैमरों की संख्या बढ़ाने और पुराने कैमरों को बदलने के लिए करीब छह लाख रुपये का बजट जारी किया गया, जिसको लेकर जेल विभाग की ओर से निविदा की कार्रवाई शुरू कर दी गई है, जो अप्रैल तक पूरी हो जाएगी।

पुलिस महानिदेशक (कारागार) आनंद कुमार ने बताया कि राज्य की जेलों में सुरक्षा व्यवस्था को पुख्ता करने के लिए कैमरों की संख्या बढ़ाने के साथ उन्हें सर्विलांस से जोड़ने काम युद्धस्तर पर जारी है।

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर 30 जेलों में 933 सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं, जिसमें से 670 नए सीसीटीवी लगाए जा चुके हैं जबकि शेष खराब हो चुके कैमरे बदले जा रहे हैं। ऐसे में इन जेलों में 34 सीसीटीवी लगने से यहां पर इनकी संख्या 50 से 60 हो गई है। सबसे अधिक 46 कैमरे आगरा जिला कारागार में लगाए गए हैं।

कुमार ने बताया कि इन सभी कैमरों को कारागार मुख्यालय से सीधे जोड़ दिया गया है ताकि कारागार मुख्यालय में संचालित कमांड सेंटर में वीडियो वॉल के माध्यम से जेलों की सीधी निगरानी 24 घंटे हो सके। राज्य की जिन जेलों में कैमरे बदले जा रहे हैं उनमें संवेदनशील बांदा जेल भी शामिल है, जहां माफिया मुख्तार अंसारी बंद है। इसके अलावा केंद्रीय कारागार आगरा, बरेली फतेहगढ़, नैनी व वाराणसी में भी सीसीटीवी कैमरों की संख्या को बढ़ाया गया है।

उन्होंने बताया कि केंद्रीय कारागार आगरा, बरेली, फतेहगढ़, नैनी, वाराणसी में सीसीटीवी कैमरे लगाने की प्रक्रिया पूरी हो गई है। इसके साथ ही जिला कारागार आगरा, फिरोजाबाद, अलीगढ़, सुलतानपुर, कानपुर, कानपुर देहात, बुलंदशहर, मेरठ, गाजियाबाद, मुजफ्फरनगर, वाराणसी, इटावा, गाजीपुर, मिर्जापुर, फैजाबाद, बाराबंकी, कन्नौज, आजमगढ़, सीतापुर, चित्रकूट, गोरखपुर, मुरादाबाद, उन्नाव, बांदा और प्रतापगढ़ में नए सीसीटीवी लगाए जा चुके हैं जबकि खराब सीसीटीवी कैमरों को बदला जा रहा है।

Leave a Comment