CHENNAI : भाजपा नेता ने कहा : ‘गलती से’ हुई इंडिगो में विमान का दरवाजा खोलने की घटना

चेन्नई:(CHENNAI ) भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) (भाजपा) की तमिलनाडु इकाई के अध्यक्ष के अन्नामलाई ने इंडिगो के एक विमान का आपात दरवाजा खोलने को लेकर आलोचनाओं का सामना कर रहे पार्टी नेता तेजस्वी सूर्या का बचाव करते हुए कहा कि यह घटना ‘‘दुर्घटनावश और गलती से’’ हुई।अन्नामलाई ने बृहस्पतिवार देर रात चेन्नई में पत्रकारों से कहा कि हालांकि, यह दुर्घटनावश हुआ, लेकिन सांसद होने के नाते सूर्या ‘‘एक मिसाल कायम’’ करना चाहते थे और उन्होंने अन्य यात्रियों को बताया कि क्या हुआ था।

चेन्नई हवाई अड्डे पर पिछले साल 10 दिसंबर को हुई इस घटना को लेकर कांग्रेस ने सूर्या की आलोचना की थी। सूर्या ने तिरुचिरापल्ली जाने वाले इंडिगो के विमान का आपात दरवाजा खोल दिया था और बाद में इसके लिए माफी मांगी थी।अन्नामलाई ने बताया, “सूर्या उस दिन मेरे पास वाली सीट पर बैठे थे। वह एअर कंडीशनर वेंट को अपनी सुविधा के अनुसार सेट कर रहे थे और लगातार उठ रहे थे, क्योंकि कुछ यात्री उनसे मिलने आए थे, जिनमें से कुछ सेल्फी ले रहे थे।”भाजपा नेता के मुताबिक, “सूर्या ने फिर उनसे आपात दरवाजे की ओर देखने के लिए कहा। सूर्या ने कहा कि दरवाजा ‘‘थोड़ा-सा खुला’’ हुआ है, जिसके बाद उन्होंने मामले की जानकारी चालक दल को दी, जिसने इंजीनियर को बुलाया।”अन्नामलाई ने कहा कि तकनीकी जांच के बाद केबिन में फिर दबाव बनाया गया और इंडिगो कर्मियों ने सूर्या से घटना की रिपोर्ट ली।

उन्होंने कहा कि चूंकि, पहले एक उड़ान रद्द होने के बाद उसके कई यात्रियों को इस उड़ान में सवार किया गया था और उन्हें पहले ही देर हो गई थी तो सूर्या ने उन्हें बताया कि क्या हुआ था, ‘‘हालांकि, विमान के उड़ान भरने में देरी के लिए वह जिम्मेदार नहीं थे।’’भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के पूर्व अधिकारी अन्नामलाई ने कहा कि यह ‘‘मिसाल कायम करने के लिए’’ था, क्योंकि वह एक सांसद तथा लोक सेवक हैं।अन्नामलाई ने कहा, ‘‘उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने साफ कहा है कि दरवाजा दुर्घटनावश खोला गया। तेजस्वी ने असुविधा के लिए माफी मांग ली… डीजीसीए और इंडिगो ने एक ही बात कही है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘आपात दरवाजा इतनी आसानी से नहीं खोला जा सकता है। यह गलती से हुई घटना है। कांग्रेस ने इसे मुद्दा बना लिया, क्योंकि उनके पास और कुछ नहीं है।’’अन्नामलाई ने कहा कि अगर किसी ने जानबूझकर शरारत की होती तो सुरक्षा अधिकारी प्राथमिकी दर्ज करते और यात्री को विमान से उतार देते। उन्होंने कहा, ‘‘हर कोई जानता है कि यह गलती से हुआ। अगर कोई और भी वहां बैठा होता तो ऐसी घटना हो सकती थी।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *