Prayagraj : मौनी अमावस्याः दो करोड़ से अधिक लोगों संगमनगरी पहुंचने का अनुमान, बढ़ाई गई सुरक्षा

आलोक गुप्ता
प्रयागराज: (Prayagraj)
माघ मेले के सबसे बड़े स्नान पर्व मौनी अमावस्या की भीड़ संगमनगरी पहुंचने लगी है। श्रद्धालुओं का संगम पहुंचने का सिलसिला गुरुवार से ही शुरू हो चुका है। शनिवार को तड़के से ही हर-हर गंगे के साथ स्नान-ध्यान का सिलसिला शुरू हो जाएगा। मौनी अमावस्या पर दो करोड़ से अधिक स्नानार्थियों के संगमनगरी पहुंचने का अनुमान लगाया गया है और उसी के अनुसार माघ मेले की सुरक्षा व्यवस्था व अन्य तैयारियां की गई हैं।

मौनी अमावस्या के मद्देनजर पहले से मौजूद घाटों के अतिरिक्त दो घाटों का निर्माण किया गया है। कुछ घाटों की लंबाई बढ़ाई गई है। घाटों के फुल होने पर भीड़ को दूसरे घाट की तरफ मोड़ने के लिए भी निर्देशित किया गया है। माघ मेला के प्रवेश द्वार से लेकर स्नानार्थियों के लौटने तक के एक-एक बिंदु की मानीटरिंग की तैयारी है। कहीं पर भी भीड़ एकत्र नहीं होने देने का सख्त निर्देश दिया गया है।
मौनी अमावस्या के स्नान पर्व पर उमड़ने वाली भीड़ के मद्देनजर सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। शुक्रवार सुबह से ही मेला क्षेत्र में अतिरिक्त फोर्स को तैनात कर दिया गया है। विभिन्न घाटों पर जल पुलिस, गोताखोर के साथ-साथ एनडीआरएफ की टीम लगातार बनी हुई है। मेला क्षेत्र में बम डिस्पोजल स्क्वायड, डाग स्क्वायड, पीएसी के अलावा अन्य एटीएस, एसटीएफ आदि सुरक्षा एजेंसियों के सुरक्षा बलों को विभिन्न महत्वपूर्ण स्थानों पर लगाया गया है।

एसपी मेला ने बताया कि माघ मेले की सुरक्षा के लिए 5000 सुरक्षा बलों की तैनाती पहले से की गई है। इसके अतिरिक्त मौनी अमावस्या के स्नान के लिए आधा दर्जन क्षेत्राधिकारियों, तीन दर्जन दरोगाओं की अतिरिक्त तैनाती की गई है। इसके अलावा पीएसी की छह कंपनी और बढ़ाई गई है। उच्चाधिकारी भी पल-पल की जानकारी ले रहे हैं।
मौनी अमावस्या पर किसी भी प्रकार की असुविधा न होने पाए, इसके लिए आज दिनभर मेला क्षेत्र में बनाए गए सभी पांच पांटून पुलों, चकर्ड प्लेट वाली सड़कों को व्यवस्थित करने का काम चलता रहा।

मेला क्षेत्र में सिर्फ पुलिस के ही ड्रोन को अनुमति
मेला क्षेत्र में सिर्फ पुलिस विभाग के ही ड्रोन को उड़ाने की अनुमति दी गई है। पुलिस कमिश्नर रमित शर्मा ने इसके लिए सख्तआदेश जारी किया है। पुलिस के अलावा यदि किसी ने मेला क्षेत्र में ड्रोन उड़ाने की कोशिश की तो सख्त कार्रवाई की जाएगी। घाटों की निगरानी के लिए संगम पर फ्लोटिंग पुलिस चौकी स्थापित की गई है। संगम में एटीएस व एसटीएफ को जिम्मेदारी दी गई है। इसके अतिरिक्त बाडी वार्न कैमरे से सुसज्जित पुलिस कर्मियोंको मेला क्षेत्र में लगाया गया है। सभी पुलिस कर्मी कंट्रोल रूम की निगरानी में रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *