Mumbai : राष्ट्रीय ध्वज का अपमान करने वाले राष्ट्रवादी नहीं, बल्कि देशद्रोही हैं: केशव उपाध्ये

दिशा सिंह
मुंबई: (Mumbai)
भाजपा के मुख्य प्रवक्ता ने केशव उपाध्ये ने शुक्रवार को बीजेपी प्रदेश कार्यालय में आयोजित पत्रकार परिषद में कहा कि ‘हर घर तिरंगा’ एक राजनीतिक दल का कार्यक्रम नहीं है, बल्कि देश में करोड़ों लोगों की प्रतिक्रिया के कारण यह देशभक्ति का त्योहार बन गया है।

उपाध्ये ने कहा कि ‘भारतीय स्वतंत्रता का अमृत महोत्सव देश के प्रत्येक नागरिक के लिए गर्व का विषय है। परंतु राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने इस अवसर के खिलाफ केवल राजनीतिक तुच्छता के कारण एक स्टैंड लिया है। राकांपा के अध्यक्ष शरद पवार जो मुश्किल से साढ़े तीन जिलों के लिए मौजूद हैं, वो हमेशा राष्ट्रीय हित के किसी भी अभियान को खराब कर देते हैं और राष्ट्रीय नफरत फैलाते हैं। इस समय पूरे देश में हर्षोल्लास के साथ मनाए जा रहे राष्ट्रीय पर्व हर घर तिरंगे को बर्बादी बताते हुए राष्ट्रवादी पार्टी ने खुलेआम अपनी इसी प्रवृत्ति का प्रदर्शन किया है। इस तरह के राष्ट्रीय समारोहों का विरोध करने से देश में राष्ट्र विरोधी राजनीति के मुखौटे स्वत: ही बेनकाब हो गए हैं।

उपाध्ये ने आरोप लगाया कि राष्ट्रवादी नेताओं और प्रवक्ताओं ने नवाब मलिक का समर्थन किया, जो राष्ट्र विरोधी आतंकवादी दाऊद से जुड़े थे, उनकी गिरफ्तारी के बावजूद उनके मंत्री पद को बरकरार रखा गया, मुंब्रा आतंकवादी इशरत जहां के समर्थन के लिए धन जुटाया और उन्हें देशभक्त बनाया, देश के स्वतंत्रता समारोह का विरोध किया और राष्ट्रीय ध्वज फहराने के अभियान को एक व्यर्थ माना। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि पार्टी के प्रवक्ता अपनी खराब बुद्धि का प्रदर्शन करते हैं और पार्टी अध्यक्ष शरद पवार हमेशा चुप रहकर ऐसे स्टैंड का समर्थन करते हैं। उन्होंने कहा कि अब लोगों को पता चल गया है कि मिटकरी, जितेंद्र आवाहाड़ और भुजबल जैसे लोग के मुंह से शरद पवार ही बात करते हैं और ऐसी राष्ट्र विरोधी मानसिकता को जनता के मन से समर्थन नहीं मिलेगा। उपाध्ये ने यह भी मांग की कि तिरंगा अभियान में एक अपव्यय के रूप में देश के राष्ट्रीय ध्वज का अपमान करने वाले मिटकरी के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जानी चाहिए। जबकि स्वतंत्रता समारोह का जश्न मनाने के लिए हर देशवासी का अधिकार है और उन नेताओं के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जानी चाहिए जिन्होंने चुप रहकर उस बयान पर सहमति जताई है।

Exit mobile version